सुपरवाईजर पर आॅगनवाडी कार्यकर्ता के द्वारा मानसिक प्रताडना एवं अपने बेटे की मौत का लगाया आरोप,

सुपरवाईजर पर आॅगनवाडी कार्यकर्ता के द्वारा मानसिक प्रताडना एवं अपने बेटे की मौत का लगाया आरोप,
होषंगाबाद – महिला एवं बाल विकास विभाग शहरी परियोजना के अंतर्गत आॅगनबाडी कार्यकर्ता सरिता वर्मा वार्ड नं. 33 सेक्टर पॅाच में कार्यरत है, उन्होने अपने सुपरवाईजर आषा भदौरिया द्वारा मानसिक रूप प्रताडित करने एवं प्रतिदिन सुबह से लेकर रात तक मीटिंग में ज्यादा समय लेने का आरोप लगाते हुये, अपने एकलौता बेटा की मौत का आरोप समय पर ईलाज न होने एवं समय के अभाव में मृत्यु हो जाने के कारण इस सुपर वाईजर पर आरोप लगाया है। नर्मदापुरम् संभाग आयुक्त एवं कलेक्टर से शिकायत की है, उन्होने की बताया कि 16 सितम्बर को मेरे बच्चे को बुखार आ गया था। और मेरी डियूटी 17 सितम्बर को जिला कलेक्टर कार्यालय में लगा दी मैने छुटटी माॅगी थी और प्रतिदिन की भाॅति मैने अपने बच्चे को डियूटी लगाने के कारण नाष्ता एवं भोजन नही बना पाई जिस कारण मेरा बेटा दुकान से नाश्ता लेकर आया और खा लिया जिस कारण बच्चे को अत्याधिक उल्टी होने के कारण हाॅस्पिटल में भर्तीया कराया गया वहाॅ पर डाॅक्टरो ने भोपाल रिफर कर दिया। अत्याधिक तबीयत खराब होने के कारण दो दिन ईलाज भोपाल में किया गया 22 सितम्बर रात्रि 11.30 बजे उसकी मौत हो गई। मेरा एक ही बेटा 19 वर्ष का था जिसने गणित विषय में 12 वी प्रथम श्रेणी में पास की, आज वह इस संसार में नही है । अगर मुझे मेडम समय पर छुटटी दे दी तो मेरे बेटा का इलाज व समुचित देखभाल में कर सकती थी मेरे बेटे की मौत के पीछे सुपरवाईजर की हठधर्मी और अपना क्रूरता स्वभाव है। मैं समस्त अधिकारीयो और राजनैतिक जनप्रतिनिधियो से मांग करती हूॅ कि इस क्रूर निंदनीय एवं हठधर्मी सुपरवाईजर को इस परियोजना से स्थानांतरण किया जावे जिससे किसी माॅ की गोद सुनी ना हो उसका लाल आॅखो के सामने मौत की नीद ना सोये। प्रदीप गुप्ता की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*