Breaking News
Home / More / तेज रफ्तार से ओवरलोड रेत ट्रक ,डंफर टेक्टर ट्राली से परिवहन निरन्तर जारी, प्रशासन इस बात से मोन

तेज रफ्तार से ओवरलोड रेत ट्रक ,डंफर टेक्टर ट्राली से परिवहन निरन्तर जारी, प्रशासन इस बात से मोन

तेज रफ्तार से ओवरलोड रेत ट्रक ,डंफर टेक्टर ट्राली से परिवहन निरन्तर जारी, प्रशासन इस बात से मोन
क्या कहे :-प्रशासन की लापरवाही ,या मिली भक्त से चल रहा कारोबार
तेज रफ्तार व ओवरलोड से दिनों दिन बढ़ती जा रही दुर्घटना की आशंका,

हरदा से कुलदीप राजपूत की खबर
टिमरनी तहसील क्षेत्र के सहित अंतर्गत चौक चौराहों से रेत से भरे तेज रफ्तार से चल रहे, ओवर लोड ट्रक व डंफरो का परिवहन बेखोफ निरतंर जारी है। माइनिंग विभाग के जांच नाको से रेत (बालू) से भरे ओवरलोड ट्रक (डंपर)होकर गुजर रहे हैं। प्रशासनिक विभाग द्वारा जांच नाके तो बना दिए गए हैं पर वह नाके सो सपाटे में लगा दिए के रूप में दिख रहे हैं । जब बात करे कि नाका बनाये है तो ट्रक डंपर को बिना रुके टोके जांच पड़ताल के जाने दिया जा रहा है। इन बात से प्रशासन भी चुपचाप चुप्पी साधे बैठे-बैठे देख रहा है और न कोई कार्यवाही की जा रही हैl यह कार्य निरंतर प्रतिदिन बेखौफ ट्रक डंपर तेज रफ्तार से ओवरलोड नाके से निकाले जाते हैं तो इसका मतलब अलग ही प्रतीत हो है कि ट्रक मालिकों के हौसले बुलंद है।जब सांठ -गांठ कर अपने इस व्यापार को चलाने के लिए बुलंदी और मजबूती और सहयोग मिल रहा है। प्रशासनिक कर्मचारियों से ज्यादा रेत खनन परिवहन करने वालों के मुखबीर एवं सहयोगी नजर आते हैं जो उन्हें पल-पल की सूचना देते रहते हैं l प्रशासन को इस बात से बेफ़िकर है ,चाहे किसी की जान जाए चाहे किसी का हो एक्सीडेंट पर न रुकेंगे न टोकेंगे फिर भी ओवरलोड रेत (बालू)परिवहन में शायद यही प्रशासन की मंशा नजर आ रही है। जबकि तेज रफ्तार से रोड पर ट्रक डंपर ट्रैक्टर की चपेट से वर्तमान में दुर्घटनाएं से कई लोगों की जान भी चली गई है, पर इस ओर जिम्मेदार इसको ध्यान ही नहीं दे रहे हैं।

जांच नाको पर प्रशासनिक कर्मचारी जगह, ठेकेदार के बाहरी कर्मचारी,———–
जांच नाको पर प्रशासन के कर्मचारियों के बजाय रेत माफियाओं व ठेकेदार के बाहरी प्रदेश से आये कर्मचारी बैठे दिखाई देना आमबात है। पुलिस प्रशासन द्वारा आज तक रेत ठेकेदार के कर्मचारियों का कोई भी वेरिफिकेशन नही किया गया है। कि ये लोग कौन,कहा से , कितने लोग है। जो क्षेत्र में कार्यरत है।जांच कार्यवाही प्रशासन के जिम्मेदार विभागों द्वारा महज की नाम मात्र खानापूर्ति कर दिखाई जा रही है

काली रात के अंधेरों में ट्रैक्टर ट्राली से बेधड़क पटकी जाती है रेत——
दूसरी ओर देखा जाए तो गंजाल ,नर्मदा से अवैध उत्खनन ट्रेक्टर ट्रालियों द्वारा रात के अंधेरे में सतत जारी है जब ट्रक डंपर मालिकों का एक सिक्का काम नहीं करता है तो दूसरा सिक्का चलता हैं रात के अंधेरों में रेत के ट्रक डंपर को बेधड़क दिन तो दिन रात में भी निकाला जा रहा है अब इस बात को क्या कहें खनिज विभाग की लापरवाही या उजागरता प्रशासन कार्यवाही के नाम पर नाम मात्र की कार्यवाही दिखाते हैं l और रेत उत्खनन कर्ता माफियाओं के हौसले को बुलंदी और सहयोग संरक्षण प्रदान करते हैंl इन संरक्षण के चलते रेत खनन कर्ताओं के हौसले इतने बुलंद होते जा रहे हैं।

जिम्मेदार का क्या कहना——-
जब जानकारी जुटाई गई तो इनका कहना यह पड़ा की, पता लग जाता हूं, ट्रक डंपर ट्रैक्टर ट्राली कहां से गुजर रहे है । जांच नाके पर लगभग ठेकेदार के 15 कर्मचारी व पुलिसकर्मी भी है। उनका वेरिफिकेशन हुआ है या नहीं जानकारी में नहीं है।

About आंखें क्राइम पर

Avatar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*