दो माह से नही मिली आंगनवाडी की राशि कर्ज में डूबे स्व सहायता समूह

दो माह से नही मिली आंगनवाडी की राशि कर्ज में डूबे स्व सहायता समूह
मसनगांव- स्कूल बंद होने के पश्चात आंगनवाड़ी केंद्रो के माध्यम से छोटे बच्चों एवं गर्भवती तथा धात्री महिलाओं को मिलने वाले पोषण आहार की राशि स्व सहायता समूह को विगत दो माह से प्राप्त नहीं हुई है जिसके कारण समूह चलाने वाली महिलाओं को कर्ज लेकर काम चलाना पड़ रहा है क्षैत्र के अधिकांश समुह कर्ज में डूबे हुए हैं समूह के जिला अध्यक्ष सुनीता डोले तथा कल्पना पाटिल ने बताया कि शासन के द्वारा आंगनवाड़ी केंद्रों को दी जाने वाली राशि 3 से 4 माह में दी जाती है जिससे समूह चलाने वाली महिलाओं को कर्ज लेकर काम चलाना पड़ता है कोरोना वायरस संक्रमण के चलते आंगनवाड़ी बंद होने के बावजूद समूह के द्वारा रेडी टू ईट के रूप में केंद्रों के माध्यम से छोटे बच्चों एवं गर्भवती तथा धात्री महिलाओं को पोषण आहार के रूप में मठरी दलिया सत्तू नमकीन पूड़ी आदि का वितरण किया जा रहा है इसके लिए शासन की ओर से राशि प्रत्येक माह दी जानी चाहिए थी परंतु विगत 2 माह से राशि प्राप्त नहीं हुई है जिसके कारण अधिकांश समूह कर्ज लेकर काम चला रहे हैं वही आंगनवाड़ी में काम करने वाले रसोइयों को भी विगत 4 माह से मानदेय प्राप्त नहीं हुआ है।समुह की उपाध्यक्ष राधा वाई ने वताया की शासन द्वारा समुह को राशि नही दी जाने के कारण दीपावली का त्योहार नही मना सके,समुह की महिलाओ को कोरोना संक्रमण के कारण वंद पडी मध्यान भोजन योजना का मिलने वाला मानदेय भी विगत आठ माह से वंद होने के कारण आर्थिक स्थिति खराब बनी हुई है समूह की कुछ महिलाओं को मनरेगा के तहत मजदूरी में काम करने जाना पड़ रहा है इस बीच आंगनवाड़ी केंद्र के बच्चों के लिए सूखा भोजन वनाने की व्यवस्था भी वनानी पड रही है।जंहा उन्हे दोनो काम की जिम्मेदारी निभानी पड रही है। स्व सहायता समूह की महिलाओं द्वारा शासन से प्रतिमाह मिलने वाले मान देय को दिए जाने की मांग की जा रही है।
मसनगांव से अनिल दीपावरे की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*