Breaking News
Home / More / कृषि विज्ञान केन्द्र गोविंदनगर होशंगाबाद द्वारा

कृषि विज्ञान केन्द्र गोविंदनगर होशंगाबाद द्वारा

कृषि विज्ञान केन्द्र गोविंदनगर होशंगाबाद द्वारा

 किसानों के लिए समसामयिक सलाह

होशंगाबाद । किसान भाईयों को आगामी मौसम को देखते हुए एवं जिले में चने की फसल प्रबंधन के बारे में कृषकों को कृषि वैज्ञानिकों द्वारा तकनीकी सलाह दी जा रही है कि चना फसल की इस समय खुटाई का कार्य का कार्य करना अति आवश्यक है, खुटाई का कार्य बुवाई के 25 से 30 दिन पश्चात करना चाहिए, जिससे वृद्धिकारक हार्मोन्स का स्त्राव शीर्ष कलिका की तरफ से घूम कर अगल-बगल की शाखाओं की ओर परिवर्तित हो जाता है, जिससे अधिक शाखाएं निकलती है और फलियां अधिक आती है। फली भेदक या चने की इल्ली की प्रकोप होने की संभावना है इसके प्रकोप से चने की उत्पादकता को 20-30 प्रतिशत तक हानि होती है एवं अधिक प्रकोप की अवस्था में चने की 70-80 प्रतिशत तक की क्षति होती है। इस कीट की मादा पत्तियों एवं शाखाओं पर भूरे हरे रंग के एक-एक करके अंडे देती है। छोटी इल्लियां पीली भूरे रंग की होती है, जो प्रारंभ में पत्तियों के पर्णहरिम को खाती है एवं बड़ी इल्लियां फूलों को खाती है, जैसे-जैसे इल्ली बड़ी होती जाती है, यह फली में छेद करके अपना मुंह अंदर डालकर पूरा दाना खा लेती है। अत: किसान भाई कीट प्रबंधन हेतु फलीभेदक एवं कटुआ कीट के नियंत्रण में कीटभक्षी पक्षियों का लाभ उठाएं इस हेतु परभक्षी पक्षियों जैसे काली मेना, बगुला, टिटहरी इत्यादि को अपने खेतो में आश्रय देने के लिए टी आकर की 3 से 4 फीट उंची खूटियाँ 8 से 10 मीटर की दूरी पर प्रति हेक्टयर के हिसाब से 30 से 40 खूटियां लगाएं। जैविक नियंत्रण के लिए परजीवी व मित्र कीट ट्राइकोग्रामा चिलोनिस अण्ड परजीवी के अंडे 1.5 लाख प्रति हेक्टयर प्रति सप्ताह इल्लियों के दिखते ही फसल में चार बार छोड़े। नर कीटों को आकर्षित करने के लिए फेरोमेन ट्रेप 10 से 12 ट्रेप प्रति हेक्टेयर लगाए, जिससे कीट की आने वाली पीड़ी पर रोक लग सके। जैविक कीटनाशी न्युक्लियर पोलीहैड्रोसिस विषाणु का इल्ली के आक्रमण होने पर 250 एलई का 500 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काब करे। किसान भाई अपने खेतो की सतत निगरानी करे और फसल में इल्लियां दिखने पर रासायनिक कीटनाशियों का प्रयोग करे इसके लिए इमामेक्टीन बेंजोएट 5 प्रतिशत एसजी 80 ग्राम प्रति एकड़ अथवा स्पाइनोसेड 45 प्रतिशत एससी 70 मिली प्रति एकड़ की दर से छिड़काब करे, यदि फसल में बड़ी इल्लियों की अधिकता हो तो क्लोरेंट्रानिलिप्रोल 18.5 एससी 0.15 मिली प्रति लीटर या इंडोक्साकार्ब 14.5 एससी 500 मिली प्रति हेक्टेयर के हिसाब से छिड़काब करे।

About आंखें क्राइम पर

Avatar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*