Breaking News
Home / More / सारनी क्षेत्र में औद्योगिक विकास के लिए अंतर्विभागीय बैठक का हुआ आयोजन।

सारनी क्षेत्र में औद्योगिक विकास के लिए अंतर्विभागीय बैठक का हुआ आयोजन।

सारनी क्षेत्र में औद्योगिक विकास के लिए अंतर्विभागीय बैठक का हुआ आयोजन।

बैतूल/सारनी। कैलाश पाटिल

सारनी क्षेत्रांर्गत औद्योगिक विकास पर विचार मंथन हेतु शनिवार सुबह 11 बजे से शाम 4.30 बजे तक वेकोलि पाथाखेड़ा के आफिसर कलब में बैठक आयोजित की गई। क्षेत्रीय विधायक डॉ. योगेश पण्डाग्रे की पहल पर आयोजित इस कार्यशाला में सांसद डीडी उइके, पूर्व विधायक हेमन्त खण्डेलवाल, कलेक्टर श्री राकेश सिंह सहित विभिन्न विभागों के अधिकारियों, स्थानीय जनप्रतिनिधियों, उद्यमियों, व्यापारिक प्रतिनिधियों सहित पावर प्लांट व वेस्टर्न कोल फील्ड्स के अधिकारियों ने भाग लिया।
कार्यशाला को संबोधित करते हुए सांसद डीडी उइके ने कहा कि सारनी-पाथाखेड़ा क्षेत्र के पिछड़ते विकास को पुन: संरक्षित कर उसे सही दिशा प्रदान करने के ठोस प्रयासों की जरूरत है। यहां स्थानीय उद्यमियों को बढ़ावा दिया जाए तथा अन्य विकास के कार्यों में आने वाली अड़चनों को तत्काल दूर किया जाए। कार्यशाला में विधायक डॉ. योगेश पण्डाग्रे ने कहा कि सारनी-पाथाखेड़ा क्षेत्र के विकास को तेजी से गति मिल सके, इस उद्देश्य से उक्त कार्यशाला का आयोजन किया गया है। इस कार्यशाला में जिले के समस्त विभागों को शामिल किया गया है। सभी के सहयोग से अपेक्षित विकास को हम गति दे सकेंगे। इस अवसर पर कलेक्टर श्री राकेश सिंह ने कहा कि जिले के जनप्रतिनिधियों द्वारा लगातार इस क्षेत्र के विकास की चिंता की जा रही है। जिला प्रशासन, जनप्रतिनिधियों के साथ मिलकर इस क्षेत्र की रौनक वापस लाने का प्रयास कर रहा है। साथ ही यहां निर्मित हुई गैर नगरी करण की स्थिति को वापस विकसित नगर के रूप में लाने के भरसक प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह की विचार-मंथन कार्यशालाएं लगातार आयोजित की जाएंगीं तथा समग्र विकास पर हरसंभव सार्थक कदम उठाए जाएंगे। इस अवसर पर पूर्व विधायक श्री हेमन्त खण्डेलवाल ने कहा कि यहां स्थापित होने वाले उद्यमों में व्यवहारिक स्वरूप पर विशेष ध्यान रखा जाए, ताकि कोई उद्योग निष्फल न हो।
सुखाढाना, चोरडोंगरी औद्योगिक क्षेत्र के विकास पर जोर
शिविर लगाकर उद्यमियों से प्रस्ताव प्राप्त किए जाएंगे। कार्यशाला में सारनी के समीप स्थित सुखाढाना-चोरडोंगरी में प्रस्तावित औद्योगिक क्षेत्र के विकास पर विस्तृत चर्चा की गई एवं यहां औद्योगिक विकास के बेहतर वातावरण तैयार करने के अधिकारियों को निर्देश दिए गए। कार्यशाला में कहा गया कि सारनी-पाथाखेड़ा में थर्मल पावर स्टेशन व कोल फील्ड्स में उपयोग किए जाने वाली आवश्यक सामग्री को स्थानीय उद्यमियों से तैयार करवाकर प्रदाय कराने के प्रयास किए जाएं। इसके अलावा खाद्य प्रसंस्करण एवं स्थानीय संसाधनों पर आधारित अन्य उद्यम भी यहां स्थापित करने के प्रयास किए जाएं। बैठक में मौजूद उद्यमियों से आवश्यक सुझाव लेते हुए महाप्रबंधक जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र को निर्देशित किया गया कि वे आगामी दिनों में एक शिविर आयोजित कर यहां उद्यमियों से उद्यम स्थापित करने संबंधी प्रस्ताव लें। साथ ही उन्हें शासन से उद्यम स्थापित करने हेतु मिलने वाली आवश्यक सहूलियतों एवं अनुदान से भली-भांति परिचित कराया जाए। इसके अलावा उद्यमों की स्थापना हेतु आवश्यकतानुसार इस औद्योगिक क्षेत्र में उपलब्ध भूमि के अतिरिक्त भी जमीन उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जाए।
बैठक में सतपुड़ा ताप विद्युत गृह में 660 मेगावाट की सुपर क्रिटिकल यूनिट की स्थापना के संबंध में प्रभारी मुख्य अभियंता श्री राजीव श्रीवास्तव से चर्चा की गई। साथ ही इसकी स्थापना की प्रगति पर भी जानकारी प्राप्त की गई। बैठक में सारनी नगर के बस स्टेण्ड को सर्वसुविधापूर्ण बनाने के ताप विद्युत गृह के प्रबंधन एवं नगर पालिका को निर्देश दिए गए। साथ ही बस स्टेण्ड के विकास हेतु दुकानों के निर्माण के लिए जमीन हस्तांतरण में आ रही दिक्कत को नियमानुसार दूर करने के लिए भी अधिकारियों को निर्देशित किया गया।

जलकुंभी उन्मूलन पर गंभीरता से हुई चर्चा

सारनी स्थित तवा जलाशय में फैल रही जलकुंभी की स्थिति पर कार्यशाला में जनप्रतिनिधियों द्वारा चिंता व्यक्त की गई। साथ ही कहा गया कि हर हालत में जलकुंभी का उन्मूलन कर डेम को बर्बाद होने से रोका जाए। संबंधित अधिकारी जलकुंभी उन्मूलन की विस्तृत एवं किफायती कार्ययोजना तैयार करें। मछुआ समुदाय को भी इस बांध से जोड़ा जाए। इस दौरान सांसद श्री उइके द्वारा कार्यशाला में पूर्व में हुए जलकुंभी उन्मूलन के कार्य पर असंतोष व्यक्त किया गया। उन्होंने कहा कि पूर्व की विसंगतियों को दूर करते हुए नए सिरे से कार्ययोजना तैयार की जाए। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि एक्सपर्ट ग्रुप गठित कर जलकुंभी उन्मूलन पर विस्तृत कार्ययोजना तैयार कराई जाएगी।

शासकीय आवासों से चोरी रोकने के निर्देश

कार्यशाला में सतपुड़ा ताप विद्युत गृह के परिसर में निर्मित शासकीय आवासों के नुकसान एवं सामग्रियों की चोरी होने पर भी जनप्रतिनिधियों द्वारा गंभीरता से चिंतन किया गया। साथ ही कहा गया कि रिक्त पड़े अनुपयोगी आवास अन्य विभागों के शासकीय कर्मचारियों को आवंटित करने की नीति तैयार की जाए, ताकि आवासों को नुकसान न पहुंचे एवं वे शासकीय कर्मचारियों के उपयोग में आ सके।

सीएसआर मद से होने वाले कार्यों में पारदर्शिता हो

कार्यशाला में सतपुड़ा थर्मल पावर प्लांट अंतर्गत सीएसआर मद से किए जाने वाले विकास कार्यों को पूरी तरह पारदर्शी बनाने के निर्देश दिए गए। जनप्रतिनिधियों द्वारा कहा गया कि डब्ल्यूसीएल एवं पावर हाउस द्वारा संचालित किए जाने वाले सीएसआर कार्यों में उनकी राय भी शामिल की जाए। इस दौरान कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि जिला प्रशासन के सहयोग एवं जनप्रतिनिधियों की राय से क्षेत्र की आवश्यकतानुसार सीएसआर मद से कार्य कराना सुनिश्चित किए जाएं।

गांधी ग्राम में प्रस्तावित कोयला खदान प्रारंभ करने की प्रगति पर हुई चर्चा

कार्यशाला में गांधी ग्राम क्षेत्र में कोयला खदान प्रारंभ किए जाने के कार्य की प्रगति पर भी चर्चा की गई। इस कार्य को शीघ्रता से गति देने के निर्देश दिए गए। डब्ल्यूसीएल के महाप्रबंधक श्री पीके चौधरी ने अभी तक की प्रगति से जनप्रतिनिधियों को अवगत कराया।

पर्यटन स्थलों का विकास रहा कार्यशाला में विशेष मुद्दा कार्यशाला में सारनी क्षेत्र में स्थित सतपुड़ा जलाशय, मठारदेव पहाड़ी, भोपाली धार्मिक स्थल को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने पर भी विस्तार से चर्चा की गई। इसके अलावा सारनी के समीप स्थित बॉटनीकल गार्डन एवं अन्य पर्यटन सुविधाओं के विकास की विस्तृत कार्ययोजना तैयार करने के अधिकारियों को निर्देश दिए गए।
इसके अलावा नगरीय क्षेत्र के अन्य स्थानीय मुद्दों पर भी कार्यशाला में चर्चा हुई एवं उनके समुचित निराकरण के संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए गए। कार्यशाला का संचालन श्री कमलेश सिंह ने किया एवं अंत में कलेक्टर श्री राकेश सिंह ने आभार व्यक्त किया।
इस दौरान वनमंडला अधिकारी पुनीत गोयल, सीईओ जिला पंचायत एमएल त्यागी, सतपुड़ा थर्मल पावर प्लांट के प्रभारी मुख्य अभियंता राजीव श्रीवास्तव, डब्ल्यूसीएल के क्षेत्रीय महाप्रबंधक पीके चौधरी, अनुविभागीय राजस्व अधिकारी अनिल सोनी, मुख्य नगरपालिका अधिकारी सीके मेश्राम सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

About आंखें क्राइम पर

Avatar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*