Breaking News
Home / More / मिनी नल जल योजना के अंतर्गत पानी टंकी निर्माण कार्य गुणवत्ता विहिन होने के कारण सरपंच के द्वारा कार्य को बीच में ही रोका गया

मिनी नल जल योजना के अंतर्गत पानी टंकी निर्माण कार्य गुणवत्ता विहिन होने के कारण सरपंच के द्वारा कार्य को बीच में ही रोका गया

मिनी नल जल योजना के अंतर्गत पानी टंकी निर्माण कार्य गुणवत्ता विहिन होने के कारण सरपंच के द्वारा कार्य को बीच में ही रोका गया

नवनीत पांडेय की रिपोर्टिंग
बलरामपुर -रामानुजगंज

रामानुजगंज रामचंद्रपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत भाला के स्कूल पारा में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के द्वारा मिनी नल जल योजना के अंतर्गत 20 लाख रुपए लागत से पानी टंकी निर्माण कार्य कराया जा रहा है जिसके कालम का कार्य अत्यंत गुणवत्ता विहीन होने पर सरपंच बीरबल सरुता सहित ग्रामीणों ने इसकी शिकायत विभाग से की जिसके बाद उप अभियंता के द्वारा तुड़वा कर कर पुनः निर्माण करवाए जाने की बात कही जा रही है।

                         प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत भाला के स्कूल पारा में मिनी नल जल योजना के अंतर्गत पानी टंकी निर्माण कार्य के लिए कालम निर्माण किया जा रहा था जिसका कार्य मानक अनुरूप नहीं हो रहा था ग्रामीणों के द्वारा बार-बार सुधार करने के लिए ठेकेदार को कहा गया परंतु कार्य के गुणवत्ता में सुधार नहीं हुआ जिसके बाद सरपंच बीरबल सरुता के द्वारा विभाग को इसकी सूचना दी गई। जिसके बाद विभाग के उप अभियंता विजय कुमार पावले मौके पर गए एवं हुए निर्माण को पुनः तुड़वा कर बनवाए जाने की बात कही। इस संबंध में भाला सरपंच बीरबल सरुता ने कहा कि कार्य अत्यंत गुणवत्ता विहीन कराया था जिसकी सूचना हम लोगों ने विभाग को दी थी। यदि गुणवत्ता में सुधार नहीं किया जाता है तो उच्च अधिकारियों से शिकायत की जाएगी।

बनते ही क्षतिग्रस्त होने लगा था कालम- कार्य किस प्रकार से गुणवत्ता विहीन कराए जा रहा था इसका पता ग्रामीणों को तब  चला जब ग्रामीणों ने देखा कि कालम जो बना हुआ था वह अपने आप क्षतिग्रस्त होने लगा जिसके बाद इसकी सूचना विभाग को दी गई।

नल जल एवं मिनी नल जल योजना के अंतर्गत हो रहे कार्यों की गुणवत्ता पर उठे रहे सवाल- विकासखंड के अन्य ग्राम पंचायतों में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के द्वारा मिनी नल जल योजना एवं नल जल योजना अंतर्गत कार्य हो रहे हैं। जिसके गुणवत्ता को लेकर पहले भी सवाल उठ चुके हैं विभाग को इस ओर ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है।

About आंखें क्राइम पर

Avatar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*