Breaking News
Home / More / उद्योगिनी संस्था एवं नाबार्ड के सहयोग से थराली एवं देवाल विकासखंडो में स्थापित स्वरोजगार आधारित कुटीर उद्योगों का उद्घाटन

उद्योगिनी संस्था एवं नाबार्ड के सहयोग से थराली एवं देवाल विकासखंडो में स्थापित स्वरोजगार आधारित कुटीर उद्योगों का उद्घाटन

थराली।
उद्योगिनी संस्था एवं नाबार्ड के सहयोग से थराली एवं देवाल विकासखंडो में स्थापित स्वरोजगार आधारित कुटीर उद्योगों का उद्घाटन करते हुए बद्रीनाथ वन प्रभाग गोपेश्वर के प्रभागीय वनाधिकारी आशतोष सिंह ने कहा कि स्वरोजगार के जरिए उत्तसाही युवा वर्ग स्वंयम की आर्थिकीय को मजबूत करते हुए अन्य लोगों को भी रोजगार मुहैया करवा सकते हैं।
विकासखंड थराली के अंतर्गत ग्राम पंचायत सोल डुंग्री,मालबज्वाड़ एवं कस्बीनगर के साथ ही देवाल ब्लाक के कांडेई में कुटिर उघोगो के तहत स्वयंम सहायता समूहों के माध्यम से उद्योगिनी संस्था चमोली एवं नाबार्ड के सहयोग से स्थापित माल्टा,बुरांश, जूसर यूनिटों, के साथ ही मंडवा,मक्का बिस्कुट यूनिटों, विभिन्न वनस्पतियां से सुगंधित हर्बल धूप-अगरबत्ती युनिटों सहित स्थानीय आधार पर उत्पादों कच्चे माल से तैयार हो सकने वाले विभिन्न युनिटों का अलग-अलग स्थानों पर बद्रीनाथ वन प्रभाग गोपेश्वर के प्रभागीय वनाधिकारी आशतोष सिंह ने बतौर उद्घाटन करते हुए कहा कि उत्तराखंड राज्य के ग्रामीण अंचलों में तमाम तरह के लघु एवं कुटीर उद्योगों की स्थापना के तमाम बड़े मौके मौजूद हैं।केवल आवश्यकता हैं तो जोखिम उठाते हुए पूरी ईमानदारी,लग्न, निष्ठा एवं मेहनत के कार्य करने की हैं।कहा कि युवा वर्ग कुटीर उद्योगों की स्थापना कर अपनी आर्थिकीय मजबूत करने के साथ ही और लोगों को भी बेहतरीन तरीके से रोजगार उपलब्ध करवा सकते हैं। उन्होंने कहा कि यहां मौजूद तमाम तरह की गैर प्रतिबंधित जड़ी-बूटियों का खजाना मौजूद हैं। किंतु बेहतरीन प्रोसेसिंग यूनिटों के आभाव में स्थानीय लोगों उतना लाभ नही ले पा रहे हैं जतना कि वास्तव में उन्हें मिलना चाहिए। डीएफओ सिंह ने युवा वर्ग से समुहों में जुड़ कर स्थानीय उत्पादों के आधार पर छोटी-छोटी प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित करने के लिए आगे आने की अपील की।
इन अवसरों पर मध्य पिंडर रेंज थराली एवं पूर्व पिंडर रेंज देवाल के वन क्षेत्राधिकारी त्रिलोक सिंह बिष्ट ने कहा कि इस क्षेत्र में तमाम तरह की ऐसी वनस्पतियां स्वत: उगती है जिनसे तमाम तरह के उत्पाद तैयार किए जा सकते हैं।और उनसे प्राकृतिक संपदा को किसी भी तरह का नुकसान नही होता हैं। इनकी आसान खेती भी की जा सकती हैं। इसके लिए स्थानीय लोगों को आगे आना होगा।इस मौके पर उद्योगिनी के प्रोग्राम मैनेजर विवेक जैन ने कहा कि नाबार्ड के सहयोग से स्थानीय लोगों को स्वरोजगार के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से समुहों को संस्था तमाम तरह से सहयोग कर रही हैं। उत्पादित सामग्री के लिए संस्था बाजार भी उपलब्ध करवाएगी। थराली के मालबज्वाड एवं कस्बीनगर में मालबज्वाड के प्रधान आशु रावत,नीमा देवी, मुन्नी देवी आदि ने विचार व्यक्त किए। जबकि देवाल के कांडेई में आयोजित कार्यक्रम में प्रधान संघ के अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह बिष्ट, डिप्टी रेंजर टीएस बिष्ट,वन पंचायत सरपंच हीरा सिंह परिहार, पूर्व क्षेपंस किशोर घुनियाल, मेहरबान सिंह बिष्ट,लाल सिंह बिष्ट,लक्ष्मण सिंह फर्स्वाण, बलवंत राम, पुष्कर सिंह महावीर सिंह रावत,चंदन सिंह आदि ने विचार व्यक्त किए।

About आंखें क्राइम पर

Avatar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*