Breaking News
Home / More / महिला दिवस पर अखिल भारतीय कवयित्री सम्मेलन सम्पन्न

महिला दिवस पर अखिल भारतीय कवयित्री सम्मेलन सम्पन्न

महिला दिवस पर अखिल भारतीय कवयित्री सम्मेलन सम्पन्न

देर रात तक कवयित्रियों ने बांधा समां, श्रोता हुए भाव विभोर

जिले की उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाओ को किया सम्मानित

    होशंगाबाद। महिला दिवस के अवसर पर नर्मदा आव्हान सेवा समिति होशंगाबाद व्दारा अनूठा आयोजन कामाख्या गार्डन मे अखिल भारतीय कवयित्री सम्मेलन एंव सम्मान समारोह आयोजित किया गया।
कवि सम्मेलन,सम्मान समारोह में अतिथि के रूप डाँ.अतुल सेठा समाजसेवी, पीयूष शर्मा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष तैराकी संघ,प्रेम गुरु सांसद प्रतिनिधि भोपाल एंव मंजू चौहान एस.डी.ओ.पी,माधुरी शर्मा सी.एम.ओ.नगर पालिका परिषद,अविनाश मिश्रा, बैनी सिंह चौहान की उपस्थिति मे अनूठा आयोजन अखिल भारतीय कवयित्री सम्मेलन का आयोजन किया गया।
कवयित्री सम्मेलन देर रात तक जारी रहा। देश के विभिन्न अंचलों से आयी कवयित्रियों ने सैकड़ों श्रोताओं को अपनी कविता, गीत, गलज हास्य, व्यंग्य की रचनाओं से भाव विभोर कर दिया।
अतिथि पं. पीयूष शर्मा ने महिला दिवस पर सम्मानित होने वाली महिलाओं को बधाई देते दी उन्होंने कार्यक्रम संयोजक केप्टन करैया को बधाई देते हुए कहा कि ऐसे आयोजन होते रहना चाहिए। उन्होंने कवि सम्मेलन की सफलता की कामना की।
    अतिथि एवं कवियों का स्वागत श्रीमती निर्मला राय, केप्टिन करैया,हंस राय, ने फूल-मालाओं से किया। मां सरस्वती की पूजा अर्चना से कार्यक्रम प्रारंभ हुआ।
अतिथियों के साथ समिति अध्यक्ष निर्मलाहंसराय सचिव केप्टिन करैया ने आंमत्रित कवयित्रियों का फूलमालाओं,स्मृति चिन्ह एवं ट्राली बैंग देकर सम्मान पत्र देकर सम्मानित किया गया।
मजबूत ओर सशक्त महिलाएं देश की ताकत होती है।ओर हमारी नारी शक्ति ने हर क्षेत्र मे उत्कृष्ट प्रर्दशन किया हैं।अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर नर्मदा आव्हान सेवा समिति कुछ ऐसी सशक्त महिलाओं को सम्मानित कर रहे है। मंजू चौहान एस.डी.ओ.पी.,माधुरी शर्मा सी.एम.ओ.नगर पालिका परिषद होशंगाबाद सहित जिले मे उल्लेखनीय कार्य करने वाली 30 महिलाओं को स्मृति चिन्ह प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।
    सर्वप्रथम भुज कच्ध गुजरात से कवयित्री मोनिका हठीला व्दारा सुमधुर सरस्वती वंदना से हुआ कवयित्री सम्मेलन प्रारंभ हुआ। सम्मेलन का कुशल संचालन भोपाल की नमृता श्रीवास्तव ने किया। दिल्ली की अलका सिंह ने अपनी रचनाओं पर श्रोताओं ने खूब सरहाना की।धनबाद बिहार की पावनी कुमारी “उस कविता को नही बांचते जिसमें हिंदुस्तान नही”
पर खूब ताली बटोरी एंव भारत माता की जयकाल हुई।
कार्यक्रम को ऊंचाई प्रदान करते हुए से भुज कच्छ गुजरात की कवियत्री मोनिका हठीला ने “घर को जन्नत बनाती है है हम नारियां, हमसे ही गूंजती है घर किलकारियां।हम न हो ती तो ए दुनिया वालों सुनो,सूख जाती तम्हारी ये फूलवारिया “। ने श्रोता तालियां बजाई ओर समां बांधे रखा। नागपुर की डाँ.वसुंधरा राय “मेरे दिँल से जो सदा निकल रही है,वो तढप नगमो मे जैसे ढँ रही है।दिल के आँगन बूंध सी भीगी भीगी,जैसे पायल फहन गजल जल रही है”। प्रस्तुत की जिसको श्रोताओं ने खूब सराहा।इंदौर की पूजा कृष्ण ने “मै अविरल नेह बहाती हू्।मै दुख मे भी मस्काती हूँ।मै भारत की नारी हूँ,मै सारे धर्म निभाती हूँ”। पसंद की। कवयित्री सम्मेलन का संचालन कर रही भोपाल की नमृता श्रीवास्तव ने ‘‘ आईना बदगुमान है शायद आजकल कुछ खफा सि रहता है।तुमसे बातें जो चार लू तो देर तक इक नशा सा रहता है। “खूब वाहवाही लूटी ओर श्रोताओं को खूब हंसाया।
मुम्बई की डाँ प्रभा शर्मा ने भी सुंदर प्रस्तुति दी। बिलासपुर की मारिया कायनात ने भी बहुत गुदगुदाया। कवयित्रियों ने देर रात तक श्रोताओं को खूब गुदगुदाआ ओर संमा बाधे रखा।

About आंखें क्राइम पर

Avatar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*