पत्रकार भाइयों पर आर्थिक संकट शासन को मदद देना चाहिए

पत्रकार भाइयों पर आर्थिक संकट शासन को मदद देना चाहिए
होशंगाबाद जिस तरह से लाकडाउन्न चल रहा है और कोरोना की पहली लहर से लेकर आज दूसरी लहर तक पूरे देश मे महामारी अपने चरम सीमा पर है , इस सबके बावजूद भी हमारे पत्रकार साथी पूरी लगन से और मेहनत से कोरोना पीड़तों की आवाज बनकर सबके सामने लेकर आते है और सबकी मदद भी करते है , लेकिन असली सच्चाई जो है अपनी समस्या वो खुद किसी से नही कह सकते कारण है अपना स्वाभिमान ,इतनी परेशानी के बावजूद भी पत्रकार भाई नियमित अपनी जिम्मेदारी समाज के प्रति और संस्था के प्रति निभाने में कोई कसर नही छोड़ रहे है ।
अब एक सच्चाई ये भी है कि बहुत से पत्रकार भाइयो को बेतन नहीं मिलता है यदि मिलता भी है तो बहुत नाम मात्र का जिसे वह अपने परिवार का भरण पोषण भी नही कर पाते है , उनकी आय मिलने वाले विज्ञापन से होती थी , अब ये विज्ञापन देने वाला हो वर्ग था स्कूल , कालेज , विश्वविद्यालय , इंजीनियरिंग कालेज , पब्लिक स्कूल और बड़े दुकान दार , और व्यवसायी वर्ग जो विज्ञापन देते थे अपना रोजगार बढ़ाने को, अब स्थिति यह हो गयी है कि काफी दिनों से निरंतर बन्द रहने की वजह से इन व्यवसायियों का खुद का व्यापार ठप पड़ा हुवा है , तो विज्ञापन कहाँ से देंगे , जिसकी वजह से हमारे कुछ पत्रकार भाई का परिवार विकट आर्थिक संकट से गुजर रहा है कुछ पत्रकार भाई कोरोना काल के गाल में समा गए उनका परिवार आर्थिक संकट में है , स्वाभिमानी पत्रकार बंधु किसी से कह नही सकते और न ही सरकार के पास कोई ठोस योजना है इनकी सहायता करने के लिए और न फ्री का राशन और न ही कोई सब्सिडी किसी भी तरह की कोई सहायता सरकार से नही मिल रही है , ऐसे में सामाजिक संगठनों को आगे बढ़ कर अपने नजदीकी पत्रकार बंधुओ की इस संकट की घड़ी में साथ देना चाहिए और सरकार को भी आगे आना चाहिए इनकी मदद को जिससे कि इनकी समस्या को कुछ कम किया जा सके , पत्रकार भी इस समाज के आधार स्तंभ है और जनता को सच्चाई बताने का यदि कोई माध्यम है तो वह पत्रकार ही है सरकार को जनता की समस्या बताने वाला पत्रकार ही है चाहे वह आक्सीजन का संकट हो चाहे वो दवाइयों की कालाबाजारी हो , चाहे वह शासन और प्रशाशन के सामने जनता की समस्या हो , पत्रकारों ने अपनी जान की परवाह किये वगैर ग्राउंड लेबल पर जाकर रिपोर्ट की है और आज ग्रामीण क्षेत्र में भी पूरे पूरे दिन भूंखे प्यासे रहकर भी जनता की समस्या सरकार को बता रहे है , जबकि लोग कोरोना के डर से घर मे बैठे है लेकिन पत्रकार बंधु समाज की समस्या को लोगो के समक्ष लाकर सामाजिक भलाई का कार्य कर रहे ऐसे विषम परिस्थितियों में समाज के समृद्ध व्यक्तियों को आगे बढ़ कर इनकी मदद करनी चाहिए l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*