निजी विस्तार कार्यक्रम अंतर्गत कृषकों की निजी भूमि पर शहतूती पौधारोपण कर

निजी विस्तार कार्यक्रम अंतर्गत कृषकों की निजी भूमि पर शहतूती पौधारोपण कर

मलबरी रेशम कृमिपालन करने पंजीयन 30 अप्रैल तक रेशम पोर्टल पर कराएं

नर्मदापुरम /22,अप्रैल,2022/ निजी विस्तार कार्यक्रम अंतर्गत कृषकों की निजी भूमि पर शहतूती पौधारोपण कर मलबरी रेशम कृमिपालन करने के लिए वर्ष 2022-23 में ऑन लाईन पंजीयन ई-रेशम पोर्टल पर 30 अप्रैल तक कराए जा सकते हैं। जिला रेशम अधिकारी ने उक्त जानकारी देते हुए बताया है कि पोर्टल पर पंजीयन कार्य शुरू हो चुका है तथा इसकी अंतिम तिथि 30 अप्रैल निर्धारित है। उन्होंने बताया है कि जिले में पूर्व से ही ग्रामीण क्षेत्रो में कार्यरत भूमिहीन कृषक विशेषकर महिलाओं द्वारा शासकीय रेशम केन्द्र की भूमि का भोगाधिकार के रूप में उपयोग कर मलबरी ककून उत्पादन किया जा रहा है, साथ ही कृषकों द्वारा स्वयं की निजी भूमि पर भी शहतूत के पौधों का रोपण कर ककून उत्पादन किया जा रहा है। वर्ष 2022-23 में जिले को 150 एकड़ क्षेत्र में शहतूत पौधों का रोपण रेशम कृषकों की निजी भूमि पर किये जाने का लक्ष्य प्राप्त हुआ है।

जिला रेशम अधिकारी ने जिले के समस्त कृषकों से अपील की है कि वे अपनी निजी 1 एकड़ भूमि पर वर्ष 2022-23 में शहतूत पौधरोपण कर ग्रामीण क्षेत्रों में ही स्वरोजगार के साधन एवं अतिरिक्त आय के साधन प्राप्त करें। इसके लिए रेशम संचालनालय की ई-रेशम पोर्टल पर 30 अप्रैल तक आन लाईन पंजीयन कराकर योजना का लाभ उठाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*