कर्फ्यू के समय एक पालक की तरह विभाग ने की सेवा

कर्फ्यू के समय एक पालक की तरह विभाग ने की सेवा
खाद्य सामग्री की विभाग के समझी अहमियत, पहुँचाने की किये प्रयास, मिली सफलता
खरगोन । 10 अप्रैल को शहर में कर्फ्यू के बाद कई ऐसे परिवार थे। जिनके पास एक समय के लिए खाने के लिए अनाज नहीं था। ऐसी स्थिति में जब लोगों को घरों से बाहर निकलने की पूरी तरह पाबंदी लगाई गई थी। ऐसे समय मे खाद्य विभाग ने शासकीय उचित मूल्य के सेल्समेन और अन्य स्टॉप के पास जारी करवा कर खाद्य सामग्री वितरित कराने में भूमिका निभाई है। हालांकि विभाग का यह दायित्व है कि जरूरतमंदो तक खाद्य सामग्री पहुँचे। लेकिन यहां के हालात किसी से छुपे नहीं है। यहां चप्पे चप्पे पर हर तरह की पुलिस बाहर निकलने वालों पर नजरें गढ़ाए हुए हैं। इसके बावजूद खाद्य विभाग के अधिकारियों ने इससे हटकर पात्र नागरिकों तक खाद्य सामग्री पहुँचाने में हर सम्भव प्रयास किये हैं। सहायक खाद्य आपूर्ति अधिकारी श्री भारत जमरे ने जानकारी देते हुए बताया कि जिस दिन से कर्फ्यू लागू हुआ। उसके बाद से पात्र नागरिकांे तक सामग्री पहुँचाने के लिए चिंतित हो गए। इस समय में कोई सेल्समेन घर से बाहर निकलना पसंद नहीं कर रहा था। लेकिन जब ऐसे समय मे मदद करने के लिए प्रेरित किया तो बात बन गई। फिर ऐसे क्षेत्रों पर विभाग ने फोकस किया जहां बहुत ज्यादा गंभीर स्थिति थी। 14 से 23 अप्रैल तक 1843 क्विंटल गेंहू और 601 क्विंटल चावल 10253 परिवारों तक पहुँचाने में कामयाबी पायी है। शहर में कुल 25 दुकानें है। लेकिन इसमें से 15 दुकानें ज्यादा प्रभावित क्षेत्रों में रही। इन दुकानों पर विभाग का ज्यादा फोकस रहा।

सहायक खाद्य अधिकारी श्री जमरे ने बताया कि 23 मार्च से 1 अप्रैल कुछ कारणों से हड़ताल और गणगौर होने से दुकानो पर खाद्य सामग्री भरपूर मात्रा में नहीं पहुँच पायी थी। फिर भी विभाग के अमले ने आपात समय मे जो काम किया। वो बहुत ही सराहनीय कार्य रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*